माँ ...

माँ....

मां जब भी देखती है उदास तुम्हें ,
 वो वजह ढूंढने की कोशिश 
 बार -बार करती है,
शायद महशूस किया हो तुमने
  वो उस पल 
तुम्हारी मुस्कुराहट के लिए 
 बेकरार होती है .।
उसकी बेकरारी उस पल,
 यूं ही नही होती .
वो चाहे खुदा से , तेरी मुस्कुराहट की सलामती
मुझे देता हर गम ,बदले में मैं रो लेती .। 
मां की ममता अनमोल धरोहर है यारों 
पल भर में सारे कष्ट है हर  लेती
कोटिशों बार 'सिजदा' करता है मेरा मन
कदमों में गिरा देख ,
 वो मुझे गले से लगा लेती .।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Dedicated to B.R.Ambedkar

जागें , देशप्रेमी हों..........