" उम्मीद "

' उम्मीद ' -'किसी वस्तु, विचार,भाव आदि को भविष्य मे              पाने या दृष्टिगोचर होने को उम्मीद कहते हैं ।'
इससे मस्तिष्क ऊर्जावान होता है।
 उम्मीद 
उम्मीदों से अंधेरों में भी ,
उजाले नजर आते हैं.
 उम्मीद रखने वाले अकेले हो कर भी
                      खुद में संवर जाते हैं  .
रुखसत होते हैं दुख उनसे , 
वे खुशियों के गीत गाते हैं .
गमों से अनजान होते हैं वो,
परिस्थितियों से जूझ जाते हैं .
आकांछाओं से हार कर के भी ,
वे उनसे सीख जाते हैं .
हार-जीत ,प्रशंसा -आलोचना 
कुछ भी मिले उनको, 
वे फिर भी मुस्कुराते हैं....
SO PLEASE BE POSITIVE & HOPEFUL AT EVERY STEP Of LIFE....

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Dedicated to B.R.Ambedkar